बैडमिंटन में 2 और बॉक्सिंग में 3, इन 5 खेलों में भारत की झोली में आ सकते हैं 10 से ज्यादा मेडल


5 Sports India Hopes for Medals in Paris Olympics 2024: खेलों का महाकुंभ यानी ओलंपिक इस बार पेरिस में होने जा रहा है. पेरिस ओलंपिक 2024 शुरू होने में अब सिर्फ दो हफ्ते बचे हैं. बता दें कि ओलंपिक 2024, 26 जुलाई से 11 अगस्त तक चलेगा. इससे पहले सभी एथलीट मेडल की तैयारी में जुटे हुए हैं. ओलंपिक 2024 से पहले एथलीट कई इवेंट में अपना दमखम दिखा रहे हैं. ऐसे में भारतीय एथलीट भी ओलंपिक 2024 में अपना लोहा मनवाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. कुछ ऐसे खेल हैं जिनमें भारतीय एथलीट देश के लिए मेडल जीत सकते हैं. यहां पांच ऐसे खेल बताए जा रहे हैं जिनमें भारत को मेडल की उम्मीद है.

इन पांच खेलों में मेडल जीत सकता है भारत
इस बार भारत 15 खेलों में हिस्सा ले रहा है. जिसमें 100 से ज्यादा एथलीट क्वालिफाई कर चुके हैं. अगर टोक्यो ओलंपिक 2020 की बात करें तो भारत ने अपने इतिहास में सबसे ज्यादा यानी 7 मेडल जीते थे. लेकिन इस बार कुछ खेलों में भारत की दावेदारी बेहद मजबूत है. जिसकी वजह से मेडल का आंकड़ा दहाई के आंकड़े को छू सकता है.

जैवलिन थ्रो: जेवलिन थ्रो में सबकी निगाहें नीरज चोपड़ा पर होंगी. पिछली बार नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में गोल्ड मेडल जीता था. नीरज चोपड़ा ने रीजनल फाइनल 2022 और वर्ल्ड फाइनल 2023 में गोल्ड जीता है. यह सब इस ओर इशारा करता है कि नीरज चोपड़ा पेरिस ओलंपिक 2024 में गोल्ड मेडल जीत सकते हैं.

बैडमिंटन: इस बार बैडमिंटन में 2 से 3 मेडल की उम्मीद है. एचएस प्रणय (मेंस सिंगल), लक्ष्य सेन (मेंस सिंगल), पीवी सिंधु (विमेंस  सिंगल), सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी (मेंस डबल), अश्विनी पोनप्पा और तनिषा क्रैस्टो (विमेंस डबल) ने क्वालीफाई किया है. भारत की नजर पीवी सिंधु से गोल्ड जीतने पर होगी। इसके अलावा एचएस प्रणय से भी मेडल की उम्मीद है.

बॉक्सिंग: पिछली बार टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारत को बॉक्सिंग में कांस्य पदक मिला था. यह पदक लवलीना बोरगोहेन ने जीता था. इस बार भी लवलीना बोरगोहेन ने क्वालिफाई कर लिया है. इसलिए इस बार उनसे गोल्ड की उम्मीदें हैं. इस बार निकहत जरीन (विमेंस 50 किग्रा), अमित पंघाल (मेंस 51 किग्रा), निशांत देव (मेंस 71 किग्रा), प्रीति पवार (विमेंस 54 किग्रा), जैस्मीन लम्बोरिया (विमेंस 57 किग्रा) ने पेरिस ओलंपिक 2024 के लिए क्वालिफाई कर लिया है.

तीरंदाजी: इस बार तीरंदाजी में कम से कम दो मेडल की उम्मीदे हैं. इस बार तीरंदाजी में भारत से छह एथलीट क्वालीफाई हुए हैं. जिसमें धीरज बोम्मादेवरा (मेंस टीम), तरुणदीप राय (मेंस टीम), प्रवीण जाधव (मेंस टीम), भजन कौर (विमेंस टीम), दीपिका कुमारी (विमेंस टीम) और अंकिता भकत (विमेंस टीम) शामिल हैं.

वेटलिफ्टिंग: टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारत ने वेटलिफ्टिंग में सिल्वर मेडल जीता. यह मेडल सैखोम मीराबाई चानू ने जीता. इस बार भी सैखोम मीराबाई चानू ने पेरिस ओलंपिक 2024 के लिए क्वालिफाई कर लिया है. देशवासियों को उनसे गोल्ड की उम्मीद है.

यह भी पढ़ें:
Paris ओलंपिक में दिखेंगी ‘दादी अम्मा’, 58 साल की उम्र में यह खिलाड़ी करेगी डेब्यू



Source link

विनय कुमार में BCCI को दिलचस्पी नहीं, जहीर खान को बनाना चाहती है गेंदबाजी कोच


India Bowling Coach: पूर्व भारतीय दिग्गज गौतम गंभीर को BCCI ने भारतीय क्रिकेट टीम का नया हेड कोच नियुक्त किया है. राहुल द्रविड़ का कार्यकाल समाप्त हो चुका है. अब गंभीर 26 जुलाई से शुरू होने वाली श्रीलंका सीरीज से नए कोच का कार्यभार संभालेंगे. हेड कोच के साथ-साथ सपोर्ट स्टाफ का कार्यकाल भी समाप्त हो गया है. ऐसे में बीसीसीआई गंभीर की टीम भी तलाश रही है. पहले खबर आई थी कि गंभीर पूर्व तेज गेंदबाज विनय कुमार को बॉलिंग कोच बनाना चाहते हैं. हालांकि, बोर्ड ने इसे नकार दिया. अब खबर आई है कि बीसीसीआई पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज जहीर खान को गेंदबाजी कोच बनाना चाहती है. 

रिपोर्ट के मुताबिक, बीसीसीआई का मानना है कि गेंदबाजी कोच का अधिक अनुभवी होना फायदेमंद रहेगा. इसी वजह से बोर्ड विनय कुमार को बॉलिंग कोच के रूप में लाने का इच्छुक नहीं है. बीसीसीआई का मानना है कि जहीर खान जैसे विश्व कप विजेता को लाना सही होगा. 

नए मुख्य कोच के रूप में गौतम गंभीर के चयन के बाद यह माना जा रहा था कि गंभीर को अपना सपोर्ट स्टाफ चुनने में खुली छूट दी जाएगी. पर अब ऐसा नहीं दिख रहा है. रिपोर्ट के मुताबिक, अभिषेक नायर टीम इंडिया के नए सहायक कोच होंगे. हालांकि, अभी बीसीसीआई ने इसकी पुष्टि नहीं की है. 

बता दें कि राहुल द्रविड़ के साथ-साथ उनके साथी सपोर्ट स्टाफ ने भी टीम इंडिया को अलविदा कह दिया है. रिपोर्ट्स की मानें तो दक्षिण अफ्रीका के पूर्व दिग्गज पूर्व फील्डिंग कोच टी दिलीप दोबारा अपना पद संभाल सकते हैं. हालांकि, अभी इस पर अंतिम मुहर नहीं लगी है. हालांकि, गेंदबाजी कोच चुनने को लेकर माथापच्ची जारी है. गेंदबाजी कोच की भूमिका के लिए विनय कुमार के अलावा दूसरा नाम लक्ष्मीपति बालाजी का है. 

यह भी पढ़ें-

Paris Olympics 2024: इस बार का ओलंपिक है सबसे अलग, मेडल में मिला है एफिल टावर का लोहा? नदी पर होगी ओपनिंग सेरेमनी



Source link

ओलंपिक में पाकिस्तान से कितना आगे है भारत? जानें दोनों देशों ने अब तक जीते कितने मेडल


India vs Pakistan In Olympic: ओलंपिक 2024 पेरिस की मेज़बानी में होगा. पेरिस में होने वाले ओलंपिक खेलों की शुरुआत 26 जुलाई से होगी, जो 11 अगस्त तक चलेंगे. हर बार की तरह इस बार भी फैंस ओलंपिक लेकर काफी उत्साहित दिख रहे हैं. उससे पहले आइए जानते हैं कि ओलंपिक में भारत अपने पड़ोसी देश पाकिस्तान से कितना आगे है. आए जानते हैं कि दोनों देशों ने अब तक ओलंपिक में कितने-कितने मेडल जीत लिए हैं. 

किस देश ने जीते कितने मेडल, कौन है आगे?

भारत: ओलंपिक के इतिहास में भारत अब तक कुल 35 मेडल जीत चुका है, जिसमें 10 गोल्ड, 09 सिल्वर और 16 ब्रॉन्ज मेडल हैं. भारत ने पहली बार 1900 में हुए ओलंपिक में हिस्सा लिया था. इस बार यानी 2024 के पेरिस ओलंपिक में भारत 26वीं बार ओलंपिक में हिस्सा लेगा. पिछली बार यानी टोक्यो में हुए ओलंपिक में भारत के 124 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था. वहीं इस बार भारत 111 खिलाड़ी हिस्सा लेंगे. पिछली बार की तुलना में इस बार खिलाड़ियों की संख्या कम हुई है.

पाकिस्तान: ओलंपिक में पाकिस्तान ने अब तक कुल 10 मेडल ही जीते हैं, जिसमें 3 गोल्ड, 3 सिल्वर और 4 ब्रॉन्ज शामिल हैं. पाकिस्तान के 10 में 8 मेडल सिर्फ हॉकी के ज़रिए आए हैं. बता दें कि पाकिस्तान 1948 से ओलंपिक में हिस्सा ले रहा है. देश को पहला मेडल 1956 के ओलंपिक में मिला था, जो मेलबर्न में हुआ था. पाकिस्तान के पहला मेडल सिल्वर था. 

पाकिस्तान को 29 सालों से है मेडल का इंतज़ार 

पाकिस्तान ने ओलंपिक में आखिरी मेडल 29 साल पहले यानी 1992 में जीता था, जो बार्सीलोना में खेला गया था. 1992 के ओलंपिक में पाकिस्तान की हॉकी टीम ने तीसरे नंबर पर रहते हुए ब्रॉन्ज मेडल जीता था. ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि क्या इस बार यानी 2024 के पेरिस ओलंपिक में पाकिस्तान को मेडल मिल पाता या नहीं. 

2020 में हुए टोक्यो ओलंपिक में भारत ने कुल 7 मेडल जीते थे, जिसमें एक गोल्ड भी शामिल था. गोल्ड के अलावा 2 सिल्वर और 4 ब्रॉन्ज थे. यह किसी भी ओलंपिक में भारत के लिए सबसे ज़्यादा मेडल थे. इस लिहाज से भारत ओलंपिक खेलों में पाकिस्तान से कहीं आगे है. 

 

ये भी पढ़ें…

Paris Olympics 2024: इस बार का ओलंपिक है सबसे अलग, मेडल में मिला है एफिल टावर का लोहा? नदी पर होगी ओपनिंग सेरेमनी



Source link

इस बार का ओलंपिक है सबसे अलग, मेडल में मिला है एफिल टावर का लोहा? नदी पर होगी ओपनिंग सेरेमनी


Paris Olympics 2024: खेलों का सबसे बड़ा महाकुंभ यानी ओलंपिक जल्द शुरू होने वाला है. इस बार का ओलंपिक पेरिस में खेला जाएगा. इसमें दुनिया भर के 10 हजार से ज्यादा एथलीट्स हिस्सा लेंगे. इस बार का ओलंपिक सबसे अलग है. पेरिस ने इसे खास बनाने के लिए पिछले 10 साल से कई स्पेशल तैयारियां की हैं. यहां आपको विस्तार से बताएंगे 2024 ओलंपिक की खासियत. 

पहली बार ओलंपिक में शामिल होंगे ये खेल 

पेरिस ओलंपिक में चार नए खेलों को जोड़ा गया है. इस बार ब्रेकडांसिंग का ओलंपिक में डेब्यू होगा. वहीं इस बार स्केटबोर्डिंग, सर्फिंग और स्पोर्ट्स क्लाइंबिंग भी ओलंपिक में शामिल हुए हैं. हालांकि, इस बार कुछ खेल ओलंपिक का हिस्सा नहीं भी होंगे. कराटे, बेसबॉल और सॉफ्टबॉल जैसे खेल टोक्यो ओलंपिक का हिस्सा थे, लेकिन इस बार इन्हें हटा दिया गया है. पेरिस ओलंपिक में जो चार नए खेल शामिल हुए हैं, इनमें किसी भी भारतीय एथलीट ने क्वालीफाई नहीं किया है. 

बेहद खास है 2024 पेरिस ओलंपिक का मेडल 

2024 पेरिस ओलंपिक का मेडल बेहद खास है. इसका डिजाइन तो शानदार है ही, साथ में हर मेडल में एफिल टावर का लोहा लगा हुआ है. मेडल का डिजाइन फ्रांस की स्पिरिट को दर्शाएगा. हर मेडल में एफिल टावर का ओरिजनल लोहा लगा हुआ है. गोल्ड मेडल का वजन 529 ग्राम, सिल्वर मेडल का वजन 525 ग्राम और ब्रॉन्ज मेडल का वजन 455 ग्राम होगा. 

नदी पर होगी ओपनिंग सेरेमनी 

पेरिस ओलंपिक में ओपनिंग सेरेमनी भी काफी स्पेशल होने वाली है. इस बार की ओपनिंग सेरेमनी सबसे अलग होगी. 2024 पेरिस ओलंपिक की ओपनिंग सेरेमनी नदी पर होगी. यह ओपनिंग सेरेमनी सेरी नदी पर होगी, हजारों एथलीट्स नांव से नदी को पार करेंगे और एफिल टावर की तरफ जाएंगे. इससे पहले तक ओपनिंग सेरेमनी किसी विशाल मैदान या स्टेडियम में होती थी, लेकिन पहली बार ओपनिंग सेरेमनी का आयोजन नदी पर होगा. वहीं 2024 पेरिस ओलंपिक का एंबलम भी काफी अलग है. 



Source link

सारी हदें पार… शाहीन अफरीदी ने बाबर आज़म को दिया धक्का, वीडियो वायरल


Shaheen Afridi Pushed Babar Azam: पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान बाबर आजम और तेज़ गेंदबाज़ शाहीन अफरीदी के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है, ऐसा तमाम मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा चुका है. 2024 टी20 वर्ल्ड कप के दौरान बाबर और शाहीन के बीच सबकुछ ठीक न होने की खबरें तेज़ हुई थीं. तमाम रिपोर्ट्स में इस बात का खुलासा भी हुआ था कि टीम ग्रुप में बंट चुकी है, जिसमें कुछ खिलाड़ी बाबर तो कुछ शाहीन के ग्रुप में हैं. इसी बीच सामने आए वीडियो ने सबको हैरान कर दिया. वीडियो में शाहीन अफरीदी कप्तान बाबर आज़म को धक्का देते हुए दिख रहे हैं. 

वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि बाबर आज़म तेज़ गेंदबाज़ के पास जा रहे होते हैं, लेकिन शाहीन उन्हें धक्का देते हुए दूर कर देते हैं और टीम के बाकी खिलाड़ियों के साथ सेलिब्रेट करते हैं. हालांकि यह साफ नहीं हो सका है कि यह वीडियो 2024 टी20 वर्ल्ड कप के दौरान का है या किसी और मैच का है. 

शाहीन अफरीदी पर लग चुके हैं कोच के साथ बदतमीजी करने आरोप 

बता दें कि हाल ही में सामने आई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि शाहीन ने टीम के कोच गैरी कस्टर्न और बाकी सपोर्ट स्टाफ के साथ बदतमीजी की. हालांकि इस बात की जांच की जा रही है कि आरोपों के बाद भी शाहीन पर टीम मैनेजमेंट की तरफ से कोई एक्शन क्यों नहीं लिया गया. 

एक सोर्स ने जियो न्यूज से बात करते हुए कहा था, “शाहीन ने हालिया दौरे पर कोच और मैनेजमेंट के साथ बदतमीजी की लेकिन टीम मैनेजमेंट की तरफ से तेज़ गेंदबाज़ के खराब व्यवहार पर कोई एक्शन नहीं लिया गया.” आगे कहा गया, “टीम में अनुशासन बनाए रखना मैनेजर की ज़िम्मेदारी थी, इसलिए इस बात की जांच की जा रही है कि बदतमीजी के बाद भी शाहीन पर एक्शन क्यों नहीं लिया गया. 

 

ये भी पढ़ें…

Watch: Lanka Premier League में दिखा अद्भुत नजारा, बाउंड्री पर सुपरमैन बने Glenn Phillips, बचाया छक्का!





Source link

जेम्स एंडरसन ने रचा इतिहास, इस महारिकॉर्ड को अपने नाम करने वाले बने पहले तेज़ गेंदबाज़


James Anderson Most Ball Bowl Record: जेम्स एंडरसन (James Anderson) अपने करियर का आखिरी टेस्ट खेल रहे हैं. इंग्लैंड और वेस्टइंडीज़ के बीच तीन मैचों की टेस्ट सीरीज़ का पहला मुकाबला लंदन के लॉर्ड्स में खेला जा रहा है. यह एंडरसन के करियर का आखिरी मैच है. अब उन्होंने अपने आखिरी मुकाबले में इतिहास रचते हुए बड़ा महारिकॉर्ड बना दिया है. एंडरसन ने जो रिकॉर्ड बनाया, उनसे पहले वैसा किसी तेज़ गेंदबाज़ ने नहीं किया. 

दरअसल जेम्स एंडरसन टेस्ट क्रिकेट में 40,000 से ज़्यादा गेंद फेंकने वाले पहले तेज़ गेंदबाज़ बन गए हैं. उन्होंने वेस्टइडीज़ के खिलाफ लॉर्ड्स में जारी टेस्ट में 40,000 गेंदें फेंकने का आंकड़ा पार किया. अगर तेज़ गेंदबाज़ों की बात करें तो एंडरसन के बाद इंग्लैंड के स्टुअर्ट ब्रॉड टेस्ट में सबसे ज़्यादा गेंदें फेंकने वाले पेसर हैं. ब्रॉड ने अपने टेस्ट करियर में 33,698 फेंकी. 

वहीं अगर ओवरऑल टेस्ट में सबसे ज़्यादा गेंद फेंकने वाले गेंदबाज़ की बात करें तो लिस्ट में श्रीलंका पूर्व दिग्गज स्पिनर मुथैया मुरलीधरन अव्वल नंबर पर आते हैं. मुरलीधरन ने अपने टेस्ट करियर में कुल 44,039 गेंदें फेंकी. फिर लिस्ट में दूसरा नंबर पूर्व दिग्गज भारतीय स्पिनर अनिल कुंबले का है. कुंबले ने अपने टेस्ट करियर में 40,850 गेंदें फेंकी. लिस्ट में तीसरा नंबर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज स्पिनर शेन वॉर्न का है. वॉर्न ने अपने टेस्ट करियर में 40,705 गेंदें फेंकी. फिर जेम्स एंडरसन चौथे नंबर पर आते हैं. 

एंडरसन ने पार किया 700 विकेट का आंकड़ा

वेस्टंडीज़ के खिलाफ टेस्ट से पहले एंडरसन के नाम पर 700 टेस्ट विकेट दर्ज थे. अब उन्होंने टेस्ट के दो दिन पूरे हो जाने तक 3 विकेट अपने नाम कर लिए हैं. इस खबर को लिखे जाने तक एंडरसन ने 703 टेस्ट विकेट पूरे कर लिए हैं. एंडरसन अपने करियर का 188वां टेस्ट मैच खेल रहे हैं. 

टेस्ट में सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले तेज़ गेंदबाज़ 

गौरलतब है कि एंडरसन टेस्ट में बतौर तेज़ गेंदबाज़ सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ हैं. हालांकि अगर ओवरऑल देखा जाए तो मुथैय मुरलीधरन सबसे ज़्यादा टेस्ट विकेट लेने वाले गेंदबाज़ हैं, जिनके नाम पर 800 विकेट दर्ज हैं. 

 

ये भी पढ़ें…

Richest Cricket Boards: BCCI है दुनिया का सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड, दूसरे नंबर वाले की आधी भी नहीं है नेटवर्थ; डिटेल में समझें



Source link